Home > Uncategorized > कांग्रेस अपने रखैल पत्रकारों को बचाने हेतु संसद पहुंची अभिसार शर्मा, पुण्य प्रसून वाजपेयी, मिलिंद पर कहर बन कर टूटे दर्षक

कांग्रेस अपने रखैल पत्रकारों को बचाने हेतु संसद पहुंची अभिसार शर्मा, पुण्य प्रसून वाजपेयी, मिलिंद पर कहर बन कर टूटे दर्षक

  • कांग्रेस अपने रखैल पत्रकारों को बचाने हेतु संसद पहुंची अभिसार शर्मा, पुण्य प्रसून वाजपेयी, मिलिंद पर कहर बन कर टूटे दर्षक

कांग्रेस अपने रखैल पत्रकारों को बचाने के लिए संसद पहुंच गयी। लोकसभा में कांग्रेस के नेता मलिकार्जुन खडगे ने आरोप लगाया कि एबीपी चैनल के पत्रकार अभिसार षर्मा, पुण्य प्रसून वाजपेयी , मिलिंद खांडेकर को सरकार ने दबाव डाल कर निकलवाया है।

सूचना और प्रसारण राज्य मंत्री राज्यवर्द्धन राठौर ने जवाब देते हुए कहा है कि इसमें सरकार की कोई भूमिका नहीं है बल्कि यह चैनल का निजी मामला है। राज्यवर्द्धन राठौर ने संसद में कहा कि इस चैनल ने कई गलत रिपोर्ट दिखाये थे फिर भी सरकार ने किसी प्रकार का दबाव नहीं बनाया है। सच तो यह है कि ये सभी पत्रकार कांग्रेस के रखैल हैं

और इधर कई गलत और तथ्यहीन खबरों के प्रकाषन के दोशी हैं, इन लोगों ने कई लोगों के सम्मान को ठेस पहुंचाया है और कई परिवारो की छवि खराब करायी है। जिन लोगों का अपमान हुआ और जिन परिवारों का अपमान हुआ है

उन लोगों ने टीवी चैनल को न्यायालय में घसीटा है, मुकदमा किया है। चैनल की बदनामी हुई। चैनल ने जब इन पत्रकारों से सबूत मांगे तो फिर इनके पास कोई सबूत नहीं थे। चैनल ने अपनी जान बचाने के लिए कांग्रेस के इन रखैल पत्रकारों से छूटकारा पा लिया।

कांग्रेस के रखैल पत्रकार अब अपनी छवि बचाने के लिए सरकार को बदनाम करने और अपने आप को षहीद घोशित कराने में लगे हुए हैं। दर्षक और पाठक जाग गये हैं। दर्षक और पाठक अब रखैल पत्रकारों को सबक सिखाने के लिए कोर्ट-कचहरी का सहरा ले रहे हैं।

दर्षक और पाठक जब सजग होंगे और अभियान रत होकर रखैल पत्रकारों को कोर्ट-कचहरी में घसीटेंगे तभी रखैल पत्रकारों को सबक मिलेगा, जनता के बीच बेनकाब होंगे। आपकी राय क्या है? लेखक:- विष्णु गुप्त